पोलियो बीमारी, लोगों को विकलांग कर देने वाली यह श्रापयुक्त बीमारी की संपूर्ण जानकारी।

 पोलियो बीमारी, लोगों को विकलांग कर देने वाली यह श्रापयुक्त बीमारी की संपूर्ण जानकारी।

लेखक:-कृति कुमारी(पत्रकार)🖋️

एक दौर था जब दुनिया भर के देशों में पोलियो बीमारी को एटम बम किस श्रेणी में देखता था।2002 में, भारत में पोलियो के मामलों की संख्या कम लेकिन लगातार बनी रहने वाली संख्या छह गुना बढ़ गई । एक साल बाद, दुनिया के सभी नए पोलियो मामलों में से 83% मामले भारत में थे। लोगों को विकलांग अपाहिज कर देने वाला यह पोलियो बीमारी बहुत ही खतरनाक बीमारी थी। भारत देश में अथक प्रयास करने के बाद वर्ष 2014 को इस बीमारी से भारत देश को पूर्णतः सफलता मिली। और यह भारत देश वर्ष 2014 को पोलियो मुक्त देश घोषित हो गया।

सबसे पहले भारत देश के तमिलनाडु राज्य को पोलियो मुक्त राज्य घोषित किया गया। उसके बाद फिर पूरा भारत देश पोलियो बीमारी से मुक्त हो गया।

ब्रिटिश डॉक्टर माइकल अडंरवुड द्वारा पोलियो का 1789 ई. मे पहचान किया गया था पर इसे उपचारिक रूप से 1840 ई.मे जर्मनी डॉक्टर जैकब हेडन के द्वारा मान्यता दी गई। पोलियो विषाणू मुख्यतः छोटे बच्चो मे होता है क्योंकि बच्चो मे पोलियो विषाणू के विरुद्ध किसी प्रकार की प्रतिरोधक क्षमता नही होती है। प्रतिरोधक क्षमता उत्पन्न करने के लिए नियमित टीकाकरण कार्यक्रम व प्लस पोलियो अभियान के अंतर्गत पोलियो वैक्सीन का खुराक 5 वर्ष से कम उम्र  के बच्चो को दी जाती है। इस विशेष प्रक्रिया मे पोलियो बिमारी के विरुद्ध बच्चो मे प्रतिरोधक क्षमता उत्पन्न होती है। ओरल पोलियो वैक्सीन का अविष्कार रूसी वैज्ञानिक डॉ. अल्बर्ट सेबिन ने 1961 ई. मे किया था।

बार - बार और एक साथ खुराक पिलाने से 5 वर्ष तक की आयु के सभी बच्चो के शरीर मे पोलियो विषाणु पनपने की जगह नही मिलती है, जिससे पोलियो का खातमा हो जाता है। CBC अनुशंसा करता है कि बच्चो मे 2 महिने के उम्र मे, 4 महिने के उम्र मे, 6 से 18 महिने के उम्र मे और 4 से 6 साल की प्रत्येक उम्र मे एक खुराक जरूर मिलनी चाहिए। 23 फरवरी 1954 को पिट्सबर्ग मे आर्सेनल एलीमेंट्री स्कूल के बच्चो के एक समूह को डॉ. जोनास साल्क द्वारा बनाई गई पोलियो वैक्सीन का पहला खुराक दिया गया था। वैक्सीन के बदोलत दुनियाभर मे 21वीं सदी तक पोलियो 99 प्रतिशत कम हो गए है। 24 अक्टूबर को हर वर्ष लोगो मे जागरूकता के उद्देश्य से विश्व पोलियो दिवस मनाया जाता है। WH0 के द्वारा दस अन्य देशो के साथ भारत को 27 मार्च 2014 को पोलियो मुक्त प्रमाण पत्र प्राप्त हुआ।  तमिलनाडु भारत का पहला पोलियो मुक्त राज्य है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ